Sunday November 19,2017

पैन नंबर (स्थायी खाता संख्या) कब अनिवार्य

Published Aug 18, 2016 05:59:00   विवेक रस्‍तोगी  

पैन नंबर (स्थायी खाता संख्या) कब अनिवार्य है, यह सबको पता होना चाहिए, कई जगह लोगों को पूरी जानकारी नहीं होने की दशा में तकलीफ उठानी पड़ती है। हम कुछ भी खरीदारी करने जाते हैं तो हमसे पैन नंबर मांगा जाता है, और हमें पता भी नहीं होता कि पैन नंबर की वाकई यहां जरूरत भी है या नहीं, या फिर आपको पता है कि ज्यादा राशि की खरीददारी पर पैन नंबर अनिवार्य है परंतु कुछ जगह कम राशि पर ही पैन नंबर ले लेते हैं, हम आगे बात करेंगे कि कहां कहां आपको पैन नंबर अनिवार्य हैं।

पैन नंबर कब अनिवार्य हैं

1 जनवरी 2016 से दो लाख के ऊपर किसी भी तरह के भुगतान पर आपको पैन नंबर बताना अनिवार्य कर दिया गया है। फिर भले ही आप किसी भी तरह का नगद या क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन कर रहे हों।
बैंक में किसी भी प्रकार का खाता खोलने के लिए पैन नंबर देना अनिवार्य है। केवल प्रधानमंत्री जन धन योजना में खाता खोलने के लिए पैन नंबर की जरूरत नहीं है।

अगर 50 हजार रूपए या इससे ज्यादा के प्रीपेड कार्ड एक साल में खरीदे हैं तो पैन नंबर देना अनिवार्य है। दो लाख से ज्यादा के स्वर्ण आभूषण की खरीददारी पर (पहले पांच लाख) भी पैन कार्ड अनिवार्य है।

भूमि-भवन के खरीदने या बेचने पर अब 5 की जगह 10 लाख की राशि पर पैन नंबर देना अनिवार्य है। यह अलग बात है कि आजकल 10 लाख रूपए में भूमि-भवन मिलना बहुत ही मुश्किल है।

अगर होटल, रेस्त्राँ का बिल और विदेश यात्रा या विदेशी मुद्रा की खरीदारी 50 हजार रूपए से ज्यादा नगद करते हैं तो पैन नंबर अनिवार्य है। (पहले 25 हजार लिमिट थी)

(मोलतोल ब्यूरो; +91-75974 64665)




The Forex Quotes are powered by Investing.com.

Commodities are powered by Investing.com

Live World Indices are powered by Investing.com

मोलतोल.इन साइट को अपने मोबाइल पर खोलने के लिए आप इस QR कोड को स्कैन कर सकते है..