Sunday November 18,2018

जीरा, धनिया के लिए सामान्‍य रहेगा यह वर्ष : भरत दासानी

Published Feb 22, 2016 12:00:00   मोलतोल संवाददाता  

मसाला कॉम्‍पलैक्‍स की दो बड़ी कमोडिटी जीरा, धनिया के लिए वर्ष 2016 सामान्‍य रहने की संभावना है। इन दोनों कमोडिटी के भावों में भारी उतार-चढ़ाव के आसार नजर नहीं आते। यदि इनके भाव सामान्‍य बने रहे तो यह निश्चित है कि घरेलू एवं निर्यात मांग में इजाफा देखने को मिल सकता है। पिछले साल हॉट बनी कमोडिटी मेथी में इस साल 10-15 फीसदी मांग बढ़ने के आसार हैं। जीरा, धनिया और मेथी के‍ लिए इस वर्ष बनी संभावनाओं, पर भरत दासानी, कृष्‍णा कैनवासिंग, राजकोट से मोलतोल डॉट इन ने बातचीत की। पेश है बातचीत के मुख्‍य अंश:

देश में इस साल जीरे की कितनी उपज होने की संभावना है ?

देश में इस साल जीरे का उत्‍पादन 45 लाख बोरी (प्रति बोरी 55 किलोग्राम) होने का अनुमान है। पिछले वर्ष यह उपज 40 लाख बोरी थी। जीरे का पिछले साल जहां कैरी फारवर्ड स्‍टॉक 25 लाख बोरी था, वह इस साल सात लाख बोरी से ज्‍यादा नहीं रहेगा। जीरे की यह उपलब्‍धता 52 लाख बोरी के करीब बैठती है, जो हमारी घरेलू एवं निर्यात मांग को पूरा करने के पर्याप्‍त है। जीरे की इस साल घरेलू खपत 32-34 लाख बोरी और निर्यात मांग 15 लाख बोरी के करीब रहने की संभावना है।

जीरे के दाम इस साल किस तरह मूवमेंट कर सकते हैं ?

जीरा मंडियों में नए जीरे की आवक हो रही है लेकिन प्रेशर नहीं है। जब प्रेशर से जीरा आने लगेगा तो इस पर दबाव देखा जा सकता है। लेकिन मेरा ऐसा मानना है कि जीरा नीचे में 13000-13500 रुपए प्रति क्विंटल से नीचे नहीं जाना चाहिए। जहां तक ऊपरी भावों का सवाल है तो बेहतर मांग पर यह 18000-19000 रुपए प्रति क्विंटल तक तक जा सकता है।

स्‍टॉकिस्‍ट किस भाव पर जीरे में सक्रिय हो सकते हैं ?

जीरा स्‍टॉकिस्‍टों की बात की जाए तो फसल लंबी चौड़ी नहीं है ऐसे में 13 हजार रुपए प्रति क्विंटल आने पर ये अधिक सक्रिय दिखाई देंगे। यह भाव टूटता भी है तो हर घटे भाव पर बाजार में स्‍टॉकिस्‍ट, कारोबारी, हैजर्स और निर्यातक सक्रिय दिखाई देंगे। इस समय जीरे में पूछपरख अच्‍छी है लेकिन हाजिर जीरा जहां 14700 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा है वही फारवर्ड में यह 13800 रुपए प्रति क्विंटल के करीब बिक रहा है। ऐसे में अभी स्‍टॉकिस्‍ट जीरे के नीचे आने का इंतजार कर रहा है। इस समय जो जीरा मंडियों में आ रहा है उसमें नमी की बात की जाए तो 9-12-13-15 फीसदी तक है। ऐसे में सभी वर्ग सूखे और अच्‍छे जीरे का इंतजार कर रहा है।

जीरे के लिए वर्ष 2015 कैसा रहा एवं इस साल क्‍या उम्‍मीद है ?

जीरे के लिए वर्ष 2015 कमजोर रहा निर्यात दृष्टि से। चीन की माली हालत कमजोर होने एवं वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था सुस्‍त होने से जीरे का निर्यात कमजोर रहा। वर्ष 2014-15 जीरा निर्यात के लिए बेहतर वर्ष रहा। दूसरी ओर, जीरे के दाम ऊंचे रहने पर ग्राहकी घट जाती है। वर्ष 2015 में जीरे के दाम औसतन 15000-16000 रुपए क्विंटल के आसपास घूमते रहे। हालांकि, जब भाव 13000-14000 रुपए प्रति क्विंटल के बीच रहते हैं तो जीरे में मांग बेहतर होती है। वर्ष 2016-17 जीरे के लिए सामान्‍य वर्ष ही रहेगा और यह बीते वर्ष जैसा ही रहे तो अचरज नहीं होना चाहिए।

धनिया की उपज इस साल कैसी रह सकती है ?

गुजरात के सौराष्‍ट्र और कच्‍छ की बात की जाए तो राज्‍य में इस साल 40 लाख बोरी (प्रति बोरी 40 किलोग्राम) धनिया पैदा होने की संभावना है। जबकि, मध्‍य प्रदेश में 40 लाख बोरी और राजस्‍थान में 30-35 लाख बोरी धनिया का उत्‍पादन होने के आसार हैं। अन्‍य राज्‍यों में यह उपज पांच लाख बोरी के करीब रहेगी। धनिया का ओपनिंग स्‍टॉक 12-15 लाख बोरी रहेगा। धनिया की कुल उपलब्‍धता हमारी घरेलू और निर्यात मांग को पूरा करने में सक्षम होगी। इस साल धनिये का निर्यात 60 हजार टन के करीब रहने की उम्‍मीद की जानी चाहिए लेकिन इसका आयात भी ठीकठाक होगा।

नए वर्ष में धनिया किस भाव रेंज में मूवमेंट कर सकता है ?

वर्ष 2015 में धनिया कारोबार अच्‍छा रहा और इस मसाला कमोडिटी में कारोबार करने वालों के लिए बेहतर वर्ष साबित हुआ। धनिये में घरेलू मांग, निर्यात मांग के साथ कमोडिटी एक्‍सचेंज एनसीडीईएक्‍स में भी यह हॉट कमोडिटी बनी रही। वर्ष 2016 में धनिया के भाव की बात की जाए तो यह ऊपर में 75 रुपए और नीचे में 55 रुपए प्रति किलोग्राम रहने की संभावना नजर आ रही है। संभव है कमोडिटी एक्‍सचेंज एनसीडीईएक्‍स में इस साल धनिया में भारी उतार-चढ़ाव देखने को नहीं मिले।

मेथी में उत्‍पादन और मांग पर आप क्‍या कहेंगे ?

मेथी की फसल पिछले साल से ड़ेढ़ गुनी आएगी क्‍योंकि बीते वर्ष बेहतर मुनाफा देने की वजह से किसानों ने इसकी बोआई बढ़ाई है। पिछले साल यह नीचे में जहां 41 रुपए बिकी वही ऊपर में 80 रुपए प्रति किलोग्राम सार्टेक्‍स एक्‍सपोर्ट क्‍वॉलिटी बिकी। अभी नई मेथी के दाम 53 रुपए प्रति किलोग्राम बोले जा रहे हैं जो इसकी आवक के दबाव के समय 35 रुपए प्रति किलोग्राम तक जा सकते हैं। मेथी की मांग में इस साल 10-15 फीसदी बढ़त की उम्‍मीद की जा सकती है क्‍योंकि भाव रेंज कमजोर है।

(मोलतोल ब्‍यूरो; +91-75974 64665)





The Forex Quotes are powered by Investing.com.

Live World Indices are powered by Investing.com

मोलतोल.इन साइट को अपने मोबाइल पर खोलने के लिए आप इस QR कोड को स्कैन कर सकते है..