Sunday November 18,2018

ज्यादा कमाई नहीं है तो बचत कैसे करें, आपको तो निवेश भी करना है

Published Dec 03, 2017 08:00:00   विवेक रस्‍तोगी  

बचत और निवेश तभी शुरु नहीं करना चाहिए जबकि आपने अपने जीवन के लंबी अवधि के लक्ष्य निर्धारित कर लिए हों जैसे कि घर खरीदना, बच्चों की पढ़ाई इत्यादि। आप अपने लिये छोटे और छोटी से मध्यम अवधि के लक्ष्य भी पाने के लिए शुरुआत कर सकते हैं, और आपको अपने जीवन में यह अपनी आदत में शुमार करना होगा।

आजकल की भागदौड़ की दुनिया में हम लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति बेहद लापरवाह हैं, हम हमेशा ही सोचते हैं कि हम अच्छे स्वास्थ्य के लिए अब घूमना और दौड़ना शुरु करेंगे, और उसके लिए हम नए जूते, कपड़े खरीद भी लाते हैं, जिससे हमें दौड़ने में आसानी रहे, अगले दिन से हम अलार्म लगाकर ऱख लेते हैं कि सुबह 5 बजे उठकर, तैयार होकर दौड़ना शुरु। सुबह जैसे ही अलार्म बजता है, वैसे ही हमारा मन हमसे कहता है कि क्यों शरीर को सुबह सुबह तकलीफ दे रहा है, और थोड़ी देर सो जाओ, थोड़ी देर बाद उठकर तैयार हो जाएंगे, और समय की गणना हमारा मन इस प्रकार करता है कि सब कुछ ऑफिस जाने के पहले हो जाएगा और वह आपको संतुष्ट भी कर देता है,लेकिन ऐसा होता कहां है। फिर सोचते हैं कि चलो आज छोड़ो, कल से देखेंगे, इस प्रकार हम आलस की दुनिया में जीते रहते हैं।

ऐसा ही हमेशा हमारे वित्त प्रबंधन (Money Management) में भी होता है, बहुत सारे लोग अपने आपको वित्तीय प्रबंधन के क्षेत्र में असहाय मानते हैं। अगर आप भी उनमें से एक हैं जिन्हें लगता है कि बचत और निवेश की शुरुआत करना बहुत मुश्किल है, समय निकालना बहुत मुश्किल है, तो आपको यहां हम बता रहे हैं कि कैसे शुरु करें।

काल करे सो आज कर, आज करे सो अब : यह कहावत बचत और निवेश शुरु करने के लिए बिल्कुल सही है, इसलिये कभी भी देरी न करें। वित्तीय प्रबंधन के लिये, बचत और निवेश के लिए आपको किसी एक दिन का इंतजार नहीं करना होता है, यह तो ऐसा है कि जब जागो तब सवेरा। हरेक दिन बचत और निवेश के लिए अच्छा है। आप यह भी कह सकते हैं कि मेरे बचत खाते में कम से कम इतना पैसा तो होना ही चाहिए या फिर मैं अपनी सैलेरी का इंतजार कर रहा हूँ या फिर नए निवेश के लिए वक्त ठीक नहीं है क्योंकि अभी बाजार काफी बढ़ चुका है इत्यादि।

अगर आप खुद ही देखेंगे तो पाएंगे कि खुद के वित्त प्रबंधन को शुरु करने के लिए आपके पास भागने के एक से एक नायाब तरीके या बहाने मौजूद हैं। लेकिन केवल वित्तीय प्रबंधन ही एकमात्र ऐसा कारण है जो कि आपके सारे दसों बहानों पर भारी पड़ता है। अगर आप अभी से बचत और निवेश शुरु करते हैं तो आपके पास अपनी सेवानिवृत्ति के लिए, घर खरीदने के लिए, अच्छी पढ़ाई के लिए, दुनिया घूमने के लिए या खुद का व्यापार करने के लिए अच्छी खासी रकम होगी। हमेशा लंबी अवधि के लक्ष्य देखें और कोशिश करें कि आप उनके लिए अभी से थोड़ी थोड़ी बचत शुरू करें और जैसे जैसे आपकी आय बढ़ती जाए, अपने बचत और निवेश भी बढ़ाते जाएं। आप अपने पास उपलब्ध रकम को देखें और सोचें कि इस रकम को कहां निवेश किया जा सकता है। अगर आपके बचत खाते में रकम नहीं है तो सोचें और पता लगाएं कि आपके बचत खाते में धन क्यों नहीं है, आपने कहां कहां खर्च किया है, और क्या वे सारे खर्चे बहुत ही ज्यादा आवश्यक थे? क्या आपके खर्च मासिक आमदनी से ज्यादा हैं? अपनी इस समस्या का समाधान आपको अभी के अभी ढूंढना होगा।

सबसे पहले बचत करना शुरु करें : अपने वित्त को सबसे पहले ठीक रास्ते पर लाने के लिए बचत की शुरुआत करें। जब तक आपके पास रकम ही नहीं होगी, आप निवेश कैसे करेंगे? अब सवाल यह है कि बचत कैसे करें? अगर आप सैलेरी पाते हैं तो आपको पता है कि आपकी आय कितनी है।

आपके कितनी बचत करनी चाहिए? इसका सही उत्तर देना वाकई बहुत कठिन है, लेकिन फिर भी कम से कम आपको अपनी मासिक आय का 10 फीसदी बचाना चाहिए, भले ही आप अपने कैरियर की शुरुआत कर रहे हों, मतलब कि अपनी कमाई के पहले महीन से ही बचत की शुरुआत करनी चाहिए। जितनी ज्यादा बचत करेंगे उतना ज्यादा अच्छा है, अगर आपकी आय अपने खर्चों से ज्यादा है। अगर आप अपनी मासिक आय में से कुछ भी नहीं बचा पा रहे हैं तो आपको अपने खर्चों को ध्यान से देखना चाहिए, और सोचना चाहिए कि क्या आप अपने खर्चों को कम कर सकते हैं, जिससे आप थोड़ी बहुत बचत तो कर ही सकें। बचत करने का सबसे आसान तरीका है कि जैसे ही आपकी मासिक आय आए आप अपनी आय का 10 फीसदी हिस्सा उसी समय अपने किसी और खाते में जमा कर दें, जो कि बचत के लिए उपयोग करेंगे, आप यह मान लीजिए कि आपको 10 फीसदी कम मासिक आय होना शुरू हो गई है। 10 फीसदी पहले देखने में छोटी रकम लगेगी,लेकिन आप एक वर्ष बाद देखेंगे तो पाएंगे कि आपने अपनी एक महीने की सैलेरी से ज्यादा की बचत कर ली है।

यह एक बेहद बुनियादी नियम है अपनी बचत करने के लिए, फिर निवेश करना शुरु करें। अपनी छोटी अवधि के लक्ष्यों के लिए बचत करना शुरू करें जैसे कि मोबाईल, लेपटॉप या कार खरीदनी हो, तो सबसे पहले इसके लिए आप एक निश्चित रकम जमा करें, इस प्रकार से आपको समझ आने लगेगा कि कैसे आप नियमित बचत कर अपनी इच्छाओं को पूरा कर सकते हैं।

जो बचत की है उसका निवेश करना शुरु करें : एक बार आपको बचत करने की आदत हो जाए तो अगला कदम है निवेश की शुरुआत करना। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनको बचत करना आसान लगता है, लेकिन निवेश करना बहुत मुश्किल लगता है। अगर आप अपने वित्तीय जीवन में इस दौर से गुजर रहे हैं तो एकदम बिल्कुल अभी से ही निवेशक के उत्पादों को देखें, सीखें और निवेश करें।

अगर आप पहली बार निवेश कर रहे हैं और सोचते हैं कि आपके लिए बैंक में जमा रकम का प्रबंधन ज्यादा ठीक है तो फिर बैंक में फिक्सड डिपॉजिट या आवर्ती जमा खाता (RD) खोलिए। आजकल तो लगभग सारे बैंक नेटबैंकिंग से एफडी (सावधि जमा) बनाने की सुविधा दे रहे हैं, जिसमें कि आप अपने बचत खाते से सीधे एफडी या आरडी खोल सकते हैं। इस तरह की जमा से आपकी शुरुआत तो होगी ही साथ ही आपको यह सरल भी रहेगा। अगर आप पहली बार निवेश कर रहे हैं और आप म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहते हैं तो आप पहले उसके बारे में जानकारी पा लीजिए। म्यूचुअल फंड में निवेश के दो पहलू होते हैं, निवेश की प्रक्रिया और निवेश। आजकल निवेश की प्रक्रिया आधार कार्ड से केवायसी KYC होने से बहुत ही सरल हो गई है, अगर आपको ऑनलाईन खरीददारी करने में 2 मिनिट लगते हैं तो ऑनलाईन निवेश करने में केवल 5 मिनिट ही लगेंगे।

जब आप निवेश की शुरुआत करते हैं तो आप निवेश के बारे में सीख रहे होते हैं, तो आप अपने निवेश को सरल ही रखें। अगर आप शुरु में 2000 रू ही बचा पा रहे हैं तो, 50 फीसदी रकम आप SIP (Systematic Investment Plan) के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करें, एक बार आपको SIP MF पर विश्वास हो जाए और उसकी प्रक्रिया पूर्ण तरह से समझ आ जाए तब आप अपना निवेश म्यूचुअल फंड में और बढ़ा सकता है। शुरू करने के लिये आप बैलेन्सड हायब्रिड फंड में निवेश कर सकते हैं। कारण कि इससे आपको अपनी निवेश की जरूरत पता चल जाएगी और साथ ही इस शुरुआत को आप सीखने के तौर पर लें न कि निवेश को तौर पर लें।

अपने लक्ष्य बनाना शुरू करें : यह तो सबको समझ में आता है कि जब आप अपना कैरियर शुरू करते हैं तो पहली बार कमाई होती है और उसी में से बचत करके आप निवेश करने की शुरुआत करते हैं। तब आपको अपने लंबी अवधि के लक्ष्यों के बारे में ज्यादा कुछ न पता होता है और न ही आप उसके बारे में सोचते हैं जो कि सेवानिवृत्ति, घर खरीदना, बच्चों की शिक्षा इत्यादि हो सकते हैं।

इस तरह की परिस्थितियों में आप अपनी बचत और निवेश को अपने पास के जमाधन को बढ़ाने में लगाएं। क्योंकि अभी आपके पास लक्ष्य नहीं हैं, लेकिन आने वाले समय में आपको पास कुछ बड़े लक्ष्य हो सकते हैं, उन परिस्थितियों का सामना करने के लिए और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए आप अपने अंदर बचत और निवेश के लिये अनुशासन ले आएं। इसके लिए आप अपने छोटे खर्चों के लिये बचत की शुरुआत से कर सकते हैं, जैसे कि मोबाइल खरीदना या फिर 6-8 महीने बाद छुट्टी पर जाना।

और इंतजार नहीं करें : आपके बैंक खाते में जो भी रकम है, आप उससे ही शुरुआत कर सकते हैं। बस बचत और निवेश की प्रक्रिया के दौरान अपने आपको इस मनोस्थिति में रखें कि आप किसी मॉल में हैं और आप अपने लिये कपड़े और जूते खरीद रहे हैं तो कौन सा कपड़ा आपके ऊपर जमेगा, उसी प्रकार से कौन सा निवेश आपके लिए लंबी अवधि में बहुत अच्छा लाभ देगा।

(मोलतोल ब्‍यूरो; +91-75974 64665)





The Forex Quotes are powered by Investing.com.

Live World Indices are powered by Investing.com

मोलतोल.इन साइट को अपने मोबाइल पर खोलने के लिए आप इस QR कोड को स्कैन कर सकते है..